Monday, 4 November 2013

वाह क्या बात है

राजनीति में नेता,
कुर्सी का  चहेता,
वाह क्या बात है......

दाम में बढ़ोत्तरी,
इंसानियत में घटोतरी,
वाह क्या बात है....

शादी में शहनाई,
बाजार में महंगाई,
वाह क्या बात है.....

बीमारी में महामारी,
राजनीति में भ्रष्टाचारी,
वाह क्या बात है.....

1 comment:

  1. KHUBSURAT WYANG BADHAAI AUR DIPAWALI KI SHUBHAKAMANA

    ReplyDelete